25+ Powerful Chanakya Quotes in hindi: आचार्य चाणक्य के प्रेरणादायक विचार

इस लेख “25+ Powerful Chanakya Quotes in hindi” में हमने आचार्य चाणक्य के हिंदी विचारो का संग्रह दिया है, जो बहुत से लोगो के लिए के लिए प्रेरणाश्रोत है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगी।

चाणक्य को विष्णुगुप्त और कौटिल्य के नमो से जाना जाता है। वह चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री और घनिष्ठ मित्र थे। चन्द्रगुप्त मौर्य अपने राज्य सम्बन्धी कोई भी निर्णय चाणक्य की सलाह से ही लेते थे। चाणक्य कूटनीति, अर्थनीति, राजनीति के महाविद्वान ,और अपने महाज्ञान का ‘कुटिल’ ‘सदुपयोग ,जनकल्याण तथा अखंड भारत के निर्माण जैसे सृजनात्मक कार्यो में करने के कारण कौटिल्य’ ‘कहलाये। Chanakya Quotes, Chanakya Thoughts आज भी लोगो को प्रेरणा देते है।

Chanakya Niti Quotes in hindi

कुछ Chanakya Niti Quotes निचे दिए गए है-

  1. किसी भी कार्य में पल भर का भी विलम्ब ना करें। – आचार्य चाणक्य

2. ईश्वर मूर्तियों में नहीं है। आपकी भावनाएँ ही आपका ईश्वर है। आत्मा आपका मंदिर है। – आचार्य चाणक्य

3. इस बात को कभी व्यक्त मत होने दीजिये की आपने क्या करने के लिए सोचा है, बुद्धिमानी से इसे रहस्य बनाये रखिये और इस काम को करने के लिए दृढ़ रहिये। – आचार्य चाणक्य

4. शिक्षा इंसान का सबसे अच्छा दोस्त है। एक शिक्षित इंसान हर जगह सम्मान पाता है। शिक्षा सुन्दरता को भी पराजित कर सकती है। – आचार्य चाणक्य

Chanakya Quotes in hindi

5. जब तक आपका शरीर स्वस्थ रहेंगा तब तक मृत्यु आपके वश में होंगी। लेकिन फिर भी आप आत्मा को बचाने की कोशिश कीजिये, क्योकि जब मृत्यु पास होंगी तब आप क्या करोंगे। – आचार्य चाणक्य

6. भाग्य के विपरीत होने पर अच्छा कर्म भी दु:खदायी हो जाता है। – आचार्य चाणक्य

7. अपमानित होके जीने से अच्छा मरना है। मृत्यु तो बस एक क्षण का दुःख देती है, लेकिन अपमान हर दिन जीवन में दुःख लाता है। – आचार्य चाणक्य

8. व्यक्ति अकेले ही पैदा होता है और अकेले ही मर जाता है और वो अपने अच्छे और बुरे कर्मो का फल खुद ही भुगतता है और वह अकेले ही नरक या स्वर्ग जाता है। – आचार्य चाणक्य

9. इतिहास गवाह हैं की, जितना नुकसान हमें दुर्जनो की दुर्जनता से नहीं हुआ, उससे ज्यादा सज्जनों की निष्क्रियता से हुआ। – आचार्य चाणक्य5

10. शत्रु की बुरी आदतों को सुनकर कानों को सुख मिलता है। – आचार्य चाणक्य

11. पुस्तकें एक मुर्ख आदमी के लिए वैसे ही हैं, जैसे एक अंधे के लिए आइना। – आचार्य चाणक्य

12. चोर और राज कर्मचारियों से धन की रक्षा करनी चाहिए। – आचार्य चाणक्य

13. विद्या को चोर भी नहीं चुरा सकता। – आचार्य चाणक्य

Chanakya Thoughts in hindi

14. व्यक्ति अपने गुणों से ऊपर उठता हैं, उच्ये स्थान पर बैठने से नहीं। – आचार्य चाणक्य

15. संतुलित दिमाग के बराबर कोई स्टारफिश नहीं और संतोष के सामान दूसरी कोई ख़ुशी नहीं, उसी प्रकार लालच के समान कोई और बीमारी नही और दया के समान दूसरा कोई गुण नहीं। – आचार्य चाणक्य

16. एक समझदार आदमी को सारस की तरह होश से काम लेना चाहिए और जगह, वक्त और अपनी योग्यता को समझते हुए अपने कार्य को सिद्ध करना चाहिए। – आचार्य चाणक्य

17. दुसरो की गलतियों से सीखो, अपने ही अनुभव से सीखने को तुम्हारी आयु कम पड़ जाएँगी। – आचार्य चाणक्य

18. ये मत सोचो की प्यार और लगाव एक ही चीज है। दोनों एक दूसरे के दुश्मन हैं। ये लगाव ही है जो प्यार को खत्म कर देता है। – आचार्य चाणक्य

19. वह जो अपने समाज को छोड़कर दुसरे समाज को अपनाता है वह उस राजा के सामान है जो अच्छे रास्ते को छोड़कर दुराचारी रास्ते को अपनाता है। – आचार्य चाणक्य

Chanakya Niti for Motivation

20. दौलत, दोस्त ,पत्नी और राज्य दोबारा हासिल किये जा सकते हैं, लेकिन ये शरीर दोबारा हासिल नहीं किया जा सकता।– आचार्य चाणक्य

21. उन लोगो से कभी दोस्ती ना करे जो आपके स्तर से बहुत निचे या बहुत उपर हो, इस तरह की दोस्ती आपको कभी ख़ुशी नहीं दे सकती। – आचार्य चाणक्य

22. फूलों की खुशबू हवा की दिशा में ही फैलती है, लेकिन एक व्यक्ति की अच्छाई चारों तरफ फैलती है। – आचार्य चाणक्य

23. एक राजा की ताकत उसकी शक्तिशाली भुजाओं में होती है। ब्राह्मण की ताकत उसके आध्यात्मिक ज्ञान में और एक औरत की ताक़त उसकी खूबसूरती, यौवन और मधुर वाणी में होती है। – आचार्य चाणक्य

24. कोई भी काम शुरू करने से पहले, स्वयम से तीन प्रश्न कीजिये – मै ये क्यों कर रहा हु, इसके परिणाम क्या हो सकते है और क्या मै सफल होऊंगा और जब गहराई से सोचने पर इन प्रश्नों के संतोषजनक उत्तर मिल जाये तभी आगे बढ़ना। – आचार्य चाणक्य

25. शत्रुओं से अपने राज्य की पूर्ण रक्षा करें। – आचार्य चाणक्य

26. वो व्यक्ति जो दूसरों के गुप्त दोषों के बारे में बातें करते हैं, वे अपने आप को बांबी में आवारा घूमने वाले साँपों की तरह बर्बाद कर लेते हैं। – आचार्य चाणक्य

27. वो जो अपने परिवार से अति लगाव रखता है भय और दुख में जीता है। सभी दुखों का मुख्य कारण लगाव ही है, इसलिए खुश रहने के लिए लगाव का त्याग आवश्यक है। – आचार्य चाणक्य

और भी पढ़े –

तो यह था हमारा ‘25+ Powerful Chanakya Niti Quotes in hindi‘ संग्रह। उम्मीद है कि आपको जरूर पसंद आया होगा। अगर कोई सुझाव हो तो कमेंट बॉक्स में जरूर लिखे। और अगर आपको यह Chanakya Quotes Collection अच्छा लगा हो तो इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। Thank You !!!

Sharing Is Caring:

Leave a Comment