40 Best Osho quotes in hindi: ओशो के अनमोल विचार

हैलो दोस्त आपका इस ब्लॉग में स्वागत है। हमारा यह पोस्ट, ‘ओशो के अनमोल विचारो (Osho quotes in hindi)‘ का संग्रह है। अगर आप भी ‘जीवन पर रजनीश ओशो के विचारो’ की तलाश में थे तो इस पोस्ट को शुरू से अंत तक पढ़े, मेरा विश्वास है कि ये ओशो के प्रेरणादायक विचार, आपके जीवन को पूरी तरह से बदल देंगे।

ओशो कौन थे?

ओशो का जन्म 11 दिसम्बर 1931 में मध्य प्रदेश के कुचवाड़ा में हुआ था। दुनिया उनको भगवान श्री रजनीश, ओशो रजनीश या रजनीश के नाम से जानती है। वह एक प्रसिद्ध भारतीय विचारक और धर्मगुरु थे, जिन्हे लोग गुरु और आध्यात्मिक शिक्षक की तरह देखते थे। उनका बचपन का नाम चंद्रमोहन था। बचपन से ही उनको दर्शन में रूचि थी।

Osho Quotes in Hindi

ओशो के कुछ प्रेरणादायक विचार निम्न है –

1. “तुम जीवन में तभी अर्थ पा सकते हो जब तुम इसे निर्मित करते हो। जीवन एक कविता है, जिसे लिखा जाना चाहिए। यह गाया जाने वाला गीत, किया जाने वाला नृत्य है।” – रजनीश ‘ओशो’

2. “विश्वास और धारणा के बीच बहुत बड़ा अंतर है। विश्वास निजी है और धारणा सामाजिक।” – रजनीश ‘ओशो’

3. “जीवन ठहराव और गति के बिच संतुलन है।” – रजनीश ‘ओशो’

4. “एक आदमी जो 100% समझदार है वह मर चूका है।” – रजनीश ‘ओशो’

5. “सिर्फ आपके पाप ही आपको दुखी कर सकते है। जो आपको अपने आप से दूर ले जाने की कोशिश करते है, ऐसी चीजो को अनदेखा करना ही बेहतर होंगा।” – रजनीश ‘ओशो’

6. “अंधेरा, प्रकाश की अनुपस्थिति है। अहंकार, जागरूकता की अनुपस्थिति है।” – रजनीश ‘ओशो’

7. “जो कुछ भी महान है, उस पर किसी का अधिकार नहीं हो सकता। और यह सबसे मूर्ख बातों में से एक है जो मनुष्य करता है – मनुष्य अधिकार चाहता है।” – रजनीश ‘ओशो’

8. “असली प्रश्न ये नहीं है कि मृत्यु के बाद जीवन का अस्तित्व है या नहीं। असली प्रश्न तो ये है कि क्या तुम मृत्यु से पहले जीवित हो? – रजनीश ‘ओशो’

9. “अंधेरा, प्रकाश की अनुपस्थिति है। अहंकार, जागरूकता की अनुपस्थिति है।” – रजनीश ‘ओशो’

10. “वह इंसान जो भरोसा करता है वह जिंदगी में आराम करता है। और वह इंसान जो भरोसा नही करता वह परेशान, डरा हुआ और कमजोर रहता है।” – रजनीश ‘ओशो’

11. “जब भी कभी तुम्हें डर लगे, तलाशने का प्रयास करो और तुमको पीछे छिपी हुई मृत्यु मिलेगी। सभी भय मृत्यु के हैं। मृत्यु एकमात्र भय-स्रोत है।” – रजनीश ‘ओशो’

12. “किसी के साथ किसी भी प्रतियोगिता की कोई ज़रूरत नहीं है। तुम जैसे हो अच्छे हो। अपने आप को स्वीकार करो।” – रजनीश ‘ओशो’

13. “आपका दिल ही आपका सबसे बड़ा शिक्षक है, आपको उसी की सुननी चाहिये। लेकिन जीवन की यात्रा में आपका अंतर्ज्ञान ही आपका शिक्षक होता है।” – रजनीश ‘ओशो’

14. “जिसके पास जितना काम ज्ञान होगा, वो अपने ज्ञान के प्रति उतना हठी होगा।” – रजनीश ‘ओशो’

15. “कोई विचार नहीं, कोई बात नहीं, कोई विकल्प नहीं। शांत रहो, अपने आप से जुड़ो।” – रजनीश ‘ओशो’

16. “किसी के जैसा बनाने की कोशिश न करे, क्युकी पहले से ही आप अनमोल है। आपमें सुधार की कोई जरूरत नहीं है। आपको इसे जानने के लिए, अनुभव के लिए अपने पास आना होगा।” – रजनीश ‘ओशो’

17. “इससे पहले कि तुम चीजों की इच्छा करो, थोड़ा सोच लो। हर संभावना है कि इच्छा पूरी हो जाए, और फिर तुम कष्ट भुगतो।” – रजनीश ‘ओशो’

18. “प्रेम एक आध्यात्मिक घटना है, वासना भौतिक। अहंकार मनोवैज्ञानिक है, प्रेम आध्यात्मिक।” – रजनीश ‘ओशो’

19. “जो तुम महसूस करते हो, तुम वही बन जाते हो। यह तुम्हारी ही जिम्मेदारी है।” – रजनीश ‘ओशो’

20. “आपके सारे विश्वास आपका दम घोटते चले जाते है (विकास रोकना) और सारे विश्वास आपको जिंदा भी नही रख सकते। आपका विश्वास ही आपके जीवन को मारता है।” – रजनीश ‘ओशो’

21. “प्रेमियों ने कभी एक दूसरे के लिए आत्मसमर्पण नहीं किया। प्रेमी सिर्फ प्रेम के लिए आत्मसमर्पण करते है।” – रजनीश ‘ओशो’

22. “मै प्रेम करता हूँ। मेरा प्रेम किसी वास्तु पर निर्भर नहीं है। मेरा प्रेम, मेरे प्रेम में होने की अवस्था में होने पर निर्भर है।” – रजनीश ‘ओशो’

23. “यदि आप किसी व्यक्ति को प्रेम करते हो तो उसे पूरी तरह स्वीकार करो। उसके सभी दोषो के साथ।” – रजनीश ‘ओशो’

24. “आपको शक्ति की जरूरत तब होती है जब कुछ हानिकारक करना होता है। अन्यथा प्रेम पर्याप्त है, करुणा पर्याप्त है।” – रजनीश ‘ओशो’

25. “प्रेम में दूसरा महत्वपूर्ण है, वासना में तुम महत्वपूर्ण हो।” – रजनीश ‘ओशो’

26. “बुद्धि ध्यान से आती है। बुद्धि विद्रोह से आती है। बुद्धि स्मृति से नहीं आती।” – रजनीश ‘ओशो’

27. “जब मै ये कहता हु की तुम ही भगवान हो तुम ही देवी हो तो मेरा मतलब यह होता है की तुम्हारी संभावनाये अनंत है और तुम्हारी क्षमताये भी अनंत है।” – रजनीश ‘ओशो’

28. “एक भीड़, एक राष्ट्र, एक धर्म, एक जाति का नहीं पूरे अस्तित्व का हिस्सा बनो। अपने को छोटी चीज़ों के लिए क्यों सीमित करना सब संपूर्ण उपलब्ध है?” – रजनीश ‘ओशो’

29. “ये दुनिया एक खेल है। जहा आज भी जितने वाले हारने के समान है और हारने वाले जितने के समान है, इसी तरह जिंदगी भी एक खेल है। जहा कुछ कहते है की वे नही जानते और कुछ जानते है की वे नहीं कहते।” – रजनीश ‘ओशो’

30. “अपने मन में जाओ, अपने मन का विश्लेषण करो। कहीं न कहीं तुमने खुद को धोखा दिया है।” – रजनीश ‘ओशो’

31. “तलाशो मत, पूछो मत, ढूंढो मत, खटखटाओ मत, मांगो मत – शांत हो जाओ। तुम शांत हो जाओगे – वो आ जाएगा। तुम शांत हो जाओगे – उसे यहीं पाओगे। तुम शांत हो जाओगे तो अपने को उसके साथ झूलते हुए पाओगे।” – रजनीश ‘ओशो’

32. “तनाव का अर्थ है कि आप कुछ और होना चाहते हैं, जो कि आप नहीं हैं।” – रजनीश ‘ओशो’

33. “यह बहुत सीखने का सवाल नहीं है। बल्कि यह बहुत कुछ भुला देने या फिर दिमाग से निकाल देने की बात है।” – रजनीश ‘ओशो’

34. “जिंदगी अपने आप में ही बहुत सुन्दर है, इसीलिए जीवन के महत्त्व को पूछना ही सबसे बड़ी मूर्खता होंगी।” – रजनीश ‘ओशो’

35. “परिणाम पाने के लिए आसानी से आगे बढ़ते रहे, भगवान के आदेश से ही सारे काम संपन्न होते है।” – रजनीश ‘ओशो’

36. “जिंदगी में हमेशा दोस्ती से रहे तब तभी आपके जीवन में मित्रता बनी रहेंगी।” – रजनीश ‘ओशो’

37. “बुद्धि कभी भी एक सीमा में रहने से नही बढती, बुद्धि तो प्रयोगों से बढती है। बुद्धि हमेशा चुनौतियों को अपनाने से ही बढती है।” – रजनीश ‘ओशो’

38. “प्यार जब सहज, अचानक, बिना अभ्यास किया हुआ, असंस्कृत, और बिना सोचे होता है, तभी वह सच्चा कहलाता है।” – रजनीश ‘ओशो’

39. “जिस समय आपको आपके प्यार और आपके सच में से किसी एक को चुनना पड़ता है तब आपका सच ही आपके लिए निर्णायक साबित हो सकता है।” – रजनीश ‘ओशो’

40. “कोई चुनाव मत करिए, जीवन को ऐसे अपनाइए जैसे वो अपनी समग्रता में हैं।” – रजनीश ‘ओशो’

और भी पढ़े –

Final line-

आपको यह पोस्ट कैसा लगा। उम्मीद है की ‘Osho Quotes in hindi‘ संग्रह ने आपको बहुत अधिक प्रभावित किया होगा। निश्चित रूप से ओशो के ये विचार, आपके खुशमय जीवन के लिए एक प्रेरणा बनेंगे। अंत में मै आपसे एक गुजारिश करूंगा कि इस पोस्ट के लिए अपना एक विचार कमेंट जरूर लिखे और अपने दोस्तों के साथ ओशो विचार संग्रह को शेयर जरूर करे। इस वेबसाइट पर आपके आगमन के लिए धन्यवाद।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment